Bimariyan Harengi

Bimariyan Harengi

Author : Dr. Abrar Multani

In stock
Rs. 195
Classification Self-help/ Health
Pub Date 1 September 2017
Imprint Manjul
Page Extent 266 pages
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 978-81-8322-679-0
In stock
Rs. 195
(inclusive all taxes)
OR
about book

मनुष्य गुफा मानव से आधुनिक मानव में परिवर्तित हो गया है I सभ्यता और विकास की अदभुत यात्रा ने हमें अकल्पनीय बुलंदियों पर पहुँचाया है और इस प्रगति का सम्मान किया जाना चाहिए I लेकिन इस विकास यात्रा में मनुष्य ने अपने स्वास्थ्य को नष्ट किया है, और अब वह जन्म लेते ही बीमार हो जाता है I उसकी ज़िन्दगी के दिन कम हो गए हैं और मृत्यु का इंतज़ार बढ़ गया है I अनेक बीमारियों से घिरा आज का आदमी बीमारियों के मूल कारणों को अनदेखा करके निरंतर नई दवाओं की खोज में लगा हुआ है I

आइये हम फिर से अपने स्वास्थ्य को वैसा ही बना लें जैसा हमारे पूर्वजों का था I हमारी उन्नति की यात्रा का सम्पूर्ण आनंद बिना सेहत के अधूरा है I आइये हम बीमार होने की कभी न टूटने वाली श्रंखला को तोड़ें और बीमारियों को हरा दें I हम विजेता बनाने का प्रयास करें, क्योंकि ईश्वर ने हमें बीमारियों को हारने के सभी उपाय प्रदान किये हैं ... आवश्यकता है उनका प्रयोग करने की, जो यह पुस्तक आपको सिखाएगी I

About author

डॉ अबरार मुल्तानी एक प्रख्यात आयुर्वेद विशेषज्ञ होने के साथ-साथ स्वास्थ्य लेखन में पिछले कई वर्षों से अपनी सेवाएँ दे रहे हैं I प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति को नवीन रूप में प्रस्तुत कर लोगों में आयुर्वेद के प्रति फैली भ्रांतियों को मिटाने में, और आयुर्वेद का प्रचार-प्रसार करने में भी आपका योगदान है I आप शरीर, मन और आत्मा का अदभुत सम्मिश्रण कर चिकित्सक हैं I डॉ. मुल्तानी 'इनक्रेडिबल आयुर्वेद, के संस्थापक तथा 'स्माइलिंग हार्ट्स' नामक संस्था के अध्यक्ष हैं I वे देश के पहले आनंद मंत्रालय (म. प्र) की गवर्निंग कमेटी के मनोनीत सदस्य भी हैं I वे कई अन्य प्रसिद्द पुस्तकों के लेखक भी हैं I