HAAR SE JEET TAK (Hindi edn of Why I Failed)

HAAR SE JEET TAK (Hindi edn of Why I Failed)

Author : Shweta Punj

In stock
Rs. 195
Classification Random House India
Pub Date 2014
Imprint Titles Distibuted By Manjul
Page Extent 198 pp
Binding PB
ISBN 978-81-8400-619-3
In stock
Rs. 195
(inclusive all taxes)
OR
about book

विफलताओं को स्वीकार करना अपने आप में बेहद मुश्किल काम है। यह कहने में बहुत साहस लगता है, कि हाँ, मैं असफल रहा/रही। 'हार से जीत तक' में श्वेता पुंज ने ऐसे 16 लीडरों का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया है जिन्होंने अपनी विफलता का भी उतना ही आनंद लिया जितना कि सफलता का। प्रत्येक कहानी विफलता का विश्लेषण करती है। चाहे वह 'आवश्यकता' और 'इच्छा' के बीच का वह अंतर रहा हो, जिसके कारण अभिनव बिन्द्रा अपना विजयी निशाना लगाने से चूक गए, या फिर सब्यसाची मुखर्जी द्वारा किया गया आत्महत्या का प्रयास जिसने उन्हें उनकी पूरी क्षमता से परिचित करवाया - ये कहानियाँ आपको इस तरह प्रभावित करेंगी, कि आप विफलता को एक अलग नज़रिये से देखने लगेंगे।

About author

Shweta Punj