Business Sutra

Business Sutra

Author : Devdutt Pattanaik

In stock
Rs. 450
Classification Non-Fiction/ Business
Pub Date 15 October 2015
Imprint Manjul Hindi
Page Extent 444
Binding PB
ISBN 978-81-8322-625-7
In stock
Rs. 450
(inclusive all taxes)
OR
about book

अपनी इस विशिष्ट पुस्तक में बेस्टसेलिंग लेखक, लीडरशिप कोच और पुराण-विद्या विशेषज्ञ देवदत्त पट्टनाइक बताते हैं कि किस प्रकार वस्तुनिष्ठता के आवरण के बावजूद आधुनिक प्रबंधन की जड़ें पश्चिमी मान्यताओं में हैं, जो कठोर उद्देश्यों को प्राप्त करने व शेयरहोल्डर वैल्यू को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है I इसके ठीक विपरीत, व्यवसाय करने का भारतीय तरीका (जैसा कि भारतीय पौराणिकता में स्पष्ट है, लेकिन जो अब चलन में नहीं है) स्वयं में व्यक्तिपरकता एवं विविधता को समेटता है और सफलता प्राप्त करने का सम्मिलित व अधिक प्रभावी तरीका प्रस्तुत करता है I इसमें दर्शन, यानी हम दुनिया को कैसे देखते हैं और समृद्धि को देवी लक्ष्मी के साथ हमारे संबंध को बहुत महत्व दिया जाता है I

सफलतापूर्वक चाय की दुकान चलाने से लेकर किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी में प्रतिभा विकसित करने जैसी
व्यावसायिक स्तिथियों को समझने के लिए बिज़नेस सूत्र हिंदू, जैन व बौद्ध पौराणिकता से ली गई कथाओं, प्रतीकों और अनुष्ठानो का उपयोग करती है I पुस्तक का मुख्य आधार है कि यदि हम मानते हैं कि समृद्धि का पीछा किया जाना चाहिए, तो कार्यस्थल रणभूमि यानी निवेशकों, विक्रेताओं, प्रतिद्वंदियों औए ग्राहकों की युद्धभूमि बन जाता है; यदि हमारी धारणा है कि समृद्धि को आकर्षित किया जाना चाहिए, तो कार्यस्थल रंगभूमि बन जाता है, यानी ऐसी जगज जहाँ सब प्रसन्न रहते हैं I

तार्किक, मौलिक और पूरी तरह सुगम बिज़नेस सूत्र विविधता से भरे हुए, तेज़ी से बदलते और लगातार होते ध्रुवीकरण मैं प्रबंधन, व्यवसाय और नेतृत्व के प्रति नए व सुक्ष्म दृष्टिकोण को प्रस्तुत करती है I

About author

देवदत्त पट्टनाइक ने भारतीय पौराणिकता पर व्यस्कों से लेकर बच्चों तक के लिए 25 से ज़्यादा किताबें और 400 से अधिक लेख हैं I 2007 से वे पौराणिकता एवं प्रबंधन के संबंध को इकोनॉमिक टाइम्स में प्रकाशित होने वाले अपने स्तंभ के माध्यम से बताते रहे हैं; 2009 में हुई टीईडी इंडिया कॉन्फ़्रेन्स में दिए गए व्याख्यान और 2010 में सीएनबीसी - टीवी18 पर सफलतापूर्वक चले कार्यक्रम बिज़नेस सूत्र के अलावा विभिन्न भारतीय विश्वविद्यालयों एवं प्रबंधन संस्थानों में दिए गए कई व्याख्यानों के माध्यम से भी वे यह कार्य करते रहे हैं I

एक डॉक्टर के रूप में प्रशिक्षण प्राप्त पट्टनाइक ने हेल्थकेयर (अपोलो हेल्थ स्ट्रीट) और फार्मा स्युटिकल (स्नोफ़ी एवेंटिस) उद्योग में पंद्रह वर्षों तक काम किया और कुछ समय तक वे अर्नेस्ट एंड यंग से बिज़नेस एडवाइजर के रूप में जुड़े रहे I इसके बाद उन्होंने अपने शौक को काम में तब्दील किया और चीफ़ बिलीफ ऑफिसर के रूप में जुड़े रहे I इसके बाद उन्होंने अपने शौक को काम में तब्दील किया और चीफ़ बिलीफ ऑफिसर के रूप में फ्यूचर ग्रुप के वैचारिक समूह में शामिल हुए I