Deodaron Ke Saaye Main

Deodaron Ke Saaye Main

Author : Ruskin Bond

In stock
Rs. 175
Classification Fiction
Pub Date 15 May 2018
Imprint Manjul
Page Extent 148 pages
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 978-93-87383-22-7
In stock
Rs. 175
(inclusive all taxes)
OR
about book

अक्टूबर 1967 : मसूरी के होटल रॉयल में वार्षिक पुष्प-प्रदर्शनी का आयोजन हो रहा था और मिस रिप्ली-बीन, दाँत के दर्द के बावजूद उस प्रदर्शनी में हर कीमत पर जाना छाती थीं.
मिस रिप्ली-बीन, होटल रॉयल (जो स्वतंत्रता से पहले पिता का था) के पुराने हिस्से में बने दो कमरों में रहती थीं. वहां से कुछ दूरी पर बर्फ़ से ढके पहाड़ दिखाई देते थे और नज़दीक ही एक सुअरख़ना था.
चाय के साथ सैंडविच तथा पनीर पकोड़े परोसे जा चुके थे और पुरस्कार-वितरण कार्यक्रम चल रहा था. तभी कर्नल बक्शी घबराये हुए भीतर आये.
'श्रीमती बसु को कुछ हो गया है,' उन्होंने कहा I 'वे बहार फुलवारी में गिरी पड़ी हैं. मुझे लगता है वे मर चुकी हैं...'

About author

रस्किन बॉण्ड का जन्म 19 मई 1934 को हिमाचल प्रदेश के कसौली के एक फ़ौजी अस्पताल में हुआ था। इनकी परवरिश शिमला, जामनगर, मसूरी, देहरादून तथा लंडन में हुई। आज-कल वे अपने परिवार के साथ देहरादून जिला में रहते है। वे अग्रेज़ी मूल के लेखक हैं। उन्होने बिशप कॉटन नामक धर्मशाला में अभ्यास किया। 1999 में भारत सरकार ने उन्हें साहित्य के क्षेत्र में उनके योगदानों के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया। 2014 में उन्हें पद्म भूषण और 'अॅवर ट्रीज़ स्टिल ग्रो इन देहरा' के लिए उन्हंह साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है ।