Jihad Ek Prem Kahani (Hindi edition of Resonance)

Jihad Ek Prem Kahani (Hindi edition of Resonance)

Author : Ajay Pandey

In stock
Rs. 195
Classification Fiction
Pub Date 5 December 2015
Imprint Manjul Hindi
Page Extent 328
Binding Paperback
ISBN 978-81-8322-699-1
In stock
Rs. 195
(inclusive all taxes)
OR
about book

जिहाद : एक प्रेम कहानी

'टु पाक टु'... एक मरते हुए व्यक्ति के आख़िरी शब्द ... क्या ये कोई सुराग है या आरोप अथवा अर्थहीन प्रलाप?

आईबी के जॉइंट डायरेक्टर सिद्धार्थ राणा अपनी पूरी बुद्धिमानी से इस रहस्य को सुलझाने की कोशिश करते हैं I सुरागों के आभाव के बावजूद सिद्धार्थ को आतंकियों को उनका भीषण मकसद हासिल करने से रोकने के लिए समय के विरुद्ध चलना है I यह मकसद है भारत को पुराणों मैं वर्णित महा प्रलय जैसी आपदा के द्वारा तबाह कर देना I

यह कहानी महाद्वीपों को पार करती हुई जटिल आतंकी षड्यंत्रों और हमलों की तह तक जाती है और आपको अपने हाई-टेक गैजेटरी और विज्ञानं के ब्योरे से विस्मित कर देती है I हिला कर रख देने वाली यादगार कहानी भी है I अपने मूल मैं यह रिश्तों की खूबसूरती की कहानी है I

ये रिश्ते देश की सीमाओं तथा ऐतिहासिक वैमनस्य से परे हैं ...

About author

अजय फ़िलहाल भारतीय राजस्व सेवा में हैं I उनकी पृष्ठभूमि एक इंजीनियर की रही और दो दशक से भारतीय राजस्व सेवा से जुड़ाव के दौरान वे दुनिया की विभिन्न ख़ुफ़िया एजेंसियों, वर्ल्ड बैंक और वाशिंगटन डी. सी. स्थित अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के निकट संपर्क में आए I वे अमेरिका में भारतीय दूतावास से जुड़े रहे और उनकी ट्रेंनिंग अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना स्थित ड्यूक विश्वविद्यालय में हुई I इन तमाम बातों से उन्हें विश्व भूराजनीति और दुनिया भर में विभिन्न स्तरों पर ख़ुफ़िया एजेंसियों एवं सरकारों के बीच मौजूद विविध जटिलताओं को भलीभाँति समझने का मौका मिला I यह सब उनके पहले उपन्यास - रेजोनेंस: प्रतिध्वनि में परिलक्षित होता है I