Avchetan Mann ki shakti ke peeche Aatmabal (Hindi)

Avchetan Mann ki shakti ke peeche Aatmabal (Hindi)

Author : Sirshree

In stock
Rs. 175
Classification Mind/ Body/ Spirit
Pub Date 25 March 2015
Imprint Hindi Titles
Page Extent 156
Binding PB
Language Hindi
ISBN 978-81-8322-593-9
In stock
Rs. 175
(inclusive all taxes)
OR
about book

आत्मबल का वरदान-अनोखा चमत्कार

आपका अवचेतन मन किसी अजूबे से कम नहीं। उसे सही प्रशिक्षण दिया जाए तो वह आपके जीवन में अनोखे चमत्कार कर सकता है। इस ट्रेनिंग के कई अद्भुत फ़ायदे तो हैं ही, पर हमारा लक्ष्य है उनके भी पार जाना।
अवचेतन मन के रहस्यों को शब्दों में बयान करना मुश्किल है, परन्तु हाँ, वहाँ तक ले जानेवाले मार्ग और उस पर चलने की युक्ति बताई जा सकती है। यही कोशिश इस पुस्तक में की गयी है। जैसे :
• अवचेतन मन को क्यों और कैसे पशिक्षित किया जाए?
• इस मन के पार कौन-सी पाँच शक्तियाँ हैं जो आत्मबल प्रदान करती हैं =?
• अपने इमोशन्स को कैसे संभाला जाए?
• अपनी ऊर्जा को क्यों और कैसे एकत्रित किया जाए?
• आत्मबल से पहाड़ जैसे लक्ष्य को कैसे हासिल किया जाए?
• आपकी सही उपस्तिथि चमत्कार कैसे कर सकती है?
• फल के प्रति उदासीन रहने के क्या फ़ायदे हैं?
• सहनशील, धैर्य और अनुशासन जैसे गुण स्वयं में कैसे लाएँ?
• अवचेतन मन की सात शक्तियों का सार क्या है?

आंतरिक यात्रा में यह पुस्तक आपकी कैप्टन है। इस यात्रा में आपको जिन पाँच आध्यात्मिक शक्तियों को समझकर, इन्हें स्वयं में अर्जित करें और पाएँ अवचेतन मन के पीछे छिपे आत्मबल का वरदान।

About author

सरश्री की आध्यात्मिक खोज का सफर उनके बचपन से प्रारंभ हो गया था I इस खोज के दौरान उन्होंने अनेक प्रकार की पुस्तकों का अध्ययन किया I इसके साथ ही अपने आध्यात्मिक अनुसंधान के दौरान अनेक ध्यान पद्धतियों का अभ्यास किया I उनकी इसी खोज ने उन्हें कई वैचारिक और शैक्षणिक संस्थानों की ओर बढ़ाया I जीवन का रहस्य समझने के लिए उन्होंने एक लम्बी अवधि तक मनन करते हुए अपनी खोज जारी रखी, जिसके अंत में उन्हें आत्मबोध प्राप्त हुआ I
सरश्री ने दो हज़ार से अधिक प्रवचन दिए हैं और सत्तर से अधिक पुस्तकों की रचना की है, जिन्हें दस से अधिक भाषाओँ में अनुवादित किया जा चुका है I