CHNAKYA CHINTAN

CHNAKYA CHINTAN

Author : Radhakrishna Pillai

Classification Non-fiction
Pub Date May 2019
Imprint Manjul
Page Extent 180
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 978-93-88241-79-3
Out of stock Notify Me
Rs. 225
(inclusive all taxes)
about book

कॉरपोरेट चाणक्य के बेस्टसेलिंग लेखक की बेहतरीन नयी पुस्तक

चाणक्य दुनिया के श्रेष्टतम कूटनीतिक चिन्तकों में से एक थे। ईसा पूर्व चौथी सदी में उन्होंने अर्थशास्त्र की रचना की थी, जो एक ऐसी बेजोड़ राजनीतिक कृति है जिसका उपयोग दुनिया भर के नेतृत्वकर्मी करते हैं। इस पुस्तक में राधाकृष्णन पिल्लई जनसमूह के लिए चिन्तन की कला पर चाणक्य की युगों पुरानी प्रज्ञा का सार प्रस्तुत करने में उस व्यवहारिक और नवाचारी दृष्टिकोण का इस्तेमाल करते हैं, जिसके लिए वे जाने जाते हैं।

'राधाकृष्णन पिल्लई की पुस्तकों में चाणक्य और उनका अर्थशास्त्र जीवन्त हो उठता है। - टाइम्स ऑफ़ इंडिया
'अतीत में एक अवलोकन...भविष्य में एक बड़ा कदम' - न्यू इंडियन एक्सप्रेस
'प्राचीन प्रज्ञा, आधुनिक ज्ञान' - बिज़नेस हेरोल्ड
'नेतृत्व विकास का चाणक्यवादी तरीका' - द हिन्दू

About author

राधाकृष्णन पिल्लई प्रबन्धन के क्षेत्र के वक्ता और नीतिगत परामर्शदाता हैं जिनको लगभग पच्चीस वर्षों का अनुभव प्राप्त है और इन विषयों पर उन्होंने 200 से ज़्यादा निबंध और आलेख लिखे हैं। उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में पीएच।डी की उपाधि प्राप्त की है। पिल्लई फ़िलहाल इस विश्वविद्यालय के लीडरशिप साइंस प्रोग्राम के उप निदेशक हैं और उन्होंने ऑक्सफ़ोर्ड, कैम्ब्रिज, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों तथा भारतीय प्रबन्धन संस्थानों में अध्यापन किया है। उन्होंने एथेंस में आयोजित वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ़ मैनेजमेंट और इंडियन फिलॉसॉफिकल कांग्रेस में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। प्रबन्धन और औद्योगिक विकास के क्षेत्रों में उनके योगदान के लिए उनको 2009 में इंटरनैशनल सरदार पटेल अवॉर्ड और 2013 में आविष्कार चाणक्य इनोवेशन रिसर्च अवॉर्ड प्रदान किये गए हैं। पिल्लई को थिंकर्स 50 द्वारा प्रबन्धन के क्षेत्र के वैश्विक स्तर के तीस शीर्षस्थ भारतीय चिन्तकों में शुमार किया गया है। उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तकों में 'कॉर्पोरेट चाणक्य', 'चाणक्य इन यू', 'चाणक्याज़ सेवन सीक्रेट्स ऑफ़ लीडरशिप' (सहलेखक डी. शिवानन्द), 'कथा चणक्य 'और 'चाणक्य इन डेली लाइफ' शामिल हैं। उनसे rchankyapillai@gmail।com पर संपर्क किया जा सकता है।