Bharat: Itihas, Sanskriti Aur Dharma ( Hindi)

Bharat: Itihas, Sanskriti Aur Dharma ( Hindi)

Author : Ashwini Kumar Dubey

In stock
Rs. 299.00
Classification History/Religion
Pub Date Fec 2023
Imprint Sarvatra (An Imprint of Manjul Publishing House)
Page Extent 182
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 9789355432483
In stock
Rs. 299.00
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

इतिहास, संस्कृति और धर्म को समझने की वैज्ञानिक दृष्टि
इतिहास का संस्कृति और धर्म के साथ बहुत गहरा सम्बन्ध है। सुप्रसिद्ध प्राच्यविद् ए. एल. बाशम ने प्राचीन भारत की चर्चा करते हुए लिखा था:
“भारत एक प्रफुल्लित देश है, जहाँ के निवासियों ने एक जटिल और विकसित होती हुई, सामाजिक व्यवस्था में, उपयुक्त स्थान ढूँढ़ते हुए प्राचीन काल के दूसरे राष्ट्रों से कहीं अधिक दयालुता और भद्रता के सह सम्बन्धों में उच्चतम स्तर प्राप्त किया है।”
बाशम का यह कथन भारत के इतिहास, संस्कृति और धर्म के विषय में बहुत कुछ कह देता है। अश्विनीकुमार दुबे की यह कृति - ‘भारत : इतिहास, संस्कृति और धर्म’ इसी परिप्रेक्ष्य में एक रचनात्मक प्रयास है।
इतिहास के विभिन्न कालखण्डों और क्रमिक सोपानों में विकसित होती हुई सांस्कृतिक चेतना और धर्म प्रवाहों को संयुक्त दृष्टि से संश्लेषित करती हुई यह कृति अपने मूल स्वरूप में वैचारिक पक्षधरता से मुक्त एक तटस्थ और निरपेक्ष विश्लेषण है। लेखक भारतीय संस्कृति की प्रवाहमयी जीवंतता और निरन्तर समृद्ध होती हुई अनुभव संपन्नता को स्वीकार करता है। वह सनातन धर्म की अवधारणा में व्यापक और सर्वजनीन विचार-दर्शन की कल्पना करता है, जिसमें सम्पूर्ण मानवता समाहित है। यह व्यापक चिन्तन-दृष्टि इस कृति की प्रमुख विशेषता है। भारत के राज्यों के बारे में जानकारी देकर लेखक ने विविधिता के एकीकरण का जो रचनात्मक प्रयास किया है, वह सराहनीय है।
विश्वास है कि हिन्दी के सुधी पाठक इस कृति का स्वागत करेंगे।
--प्रो. महेश दुबे, इन्दौर

About the Author(s)

अश्विनीकुमार दुबे
जन्म : 24 जुलाई, 1956 पन्ना (म.प्र.), इंजीनियरिंग सेवा से सेवा निवृत्त
शिक्षा : इंजीनियरिंग में डिप्लोमा, हिन्दी में स्नातकोत्तर
1970 से विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में व्यंग्य, कहानियां, उपन्यास, निबंध, नाटक, पटकथा, रेडियो रूपक, डायरी, रिपोर्ताज, संस्मरण एवं संगीत विषयक रचनाएं प्रकाशित
अब तक पन्द्रह व्यंग्य संग्रह (चयनित मिलाकर), पांच उपन्यास और दो कहानी संकलन प्रकाशित
शास्त्रीय संगीत पर एकाग्र : ‘पंचामृत’ नामक पुस्तक रज़ा फ़ाउंडेशन द्वारा प्रकाशित
पुरस्कार : भारतेन्दु पुरस्कार, अंबिका प्रसाद दिव्य पुरस्कार, स्पेनि सम्मान, व्यंग्य लेखन में विशिष्ट योगदान के लिए उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान का पंडित श्री नारायण चतुर्वेदी सम्मान, म.प्र साहित्य अकादमी का श्री वृंदावनलाल वर्मा पुरस्कार
ashwinikudubey@gmail.com

[profiler]
Memory usage: real: 20971520, emalloc: 18433256
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem