Chuninda 75

Chuninda 75

Author : Vijay Telang

In stock
Rs. 150
Classification Poetry
Pub Date April 2021
Imprint Sarvatra
Page Extent 108
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 9789390924721
In stock
Rs. 150
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

विजय तैलंग हमेशा मन में आये विचारों को पंक्तियों में पिरोकर छोटी पर्चियों में लिखकर एक बॉक्स में रख देते थे। छोटी-छोटी कवितायें लिखने का शौक उन्हें स्कूली शिक्षा के समय से ही रहा है, और उन्होंने स्कूल से लेकर अब तक कई अनुभवों को कविताओं में अभिव्यक्त किया है। बहुत समय यह सोचते हुए निकल गया कि इन्हें प्रकाशित किया जाये अथवा नहीं। परिवारजनों और चाहने वालों के प्रोत्साहन से निश्चय हुआ कि आपके 75वें जन्मदिन पर आपकी चुनिंदा 75 कविताओं को प्रकाशित किया जाये।
आशा है कि ये कवितायें आपके भावों से वार्तालाप करेंगी।

About the Author(s)

विजय तैलंग का जन्म मध्यप्रदेश के एक छोटे-से शहर सागर में 1946 में हुआ। 1950 में आपका परिवार भोपाल आ गया और तबसे न वे भोपाल से निकले, न भोपाल उनके दिल से। उनकी तीन बेटियां हैं, जो अपने-अपने पारिवारिक जीवन में व्यस्त हैं और आपका समय अब अपनी पत्नी के साथ और अपने पेशे से जुड़े कार्यों में बीतता है।
व्यवहारिक रूप से कर-सलाहकार के रूप में 52 वर्षों तक सेवायें देते हुए आन्तरिक खुशी के विरूद्ध अपने विश्वास पर आये लोगों के हित में गुणा-भाग कर बचत के साधन बताने में ही इतना समय व्यतीत हो गया।

[profiler]
Memory usage: real: 31719424, emalloc: 31102200
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem