Meri Gita ( Hindi)

Meri Gita ( Hindi)

Author : Devdutt Pattanaik

In stock
Rs. 195.00
Classification Non-Fiction/ Philosophy
Pub Date November 2017 (Third edition)
Imprint Rupa Titles Distibuted By Manjul Publishing House
Page Extent 278
Binding Paerback
Language Hindi
ISBN 9788129144836
In stock
Rs. 195.00
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

देवदत्त पटनायक के समकालीन पाठकों के लिए भगवद गीता के रहस्यों को उद्घाटित किया है I गीता का श्लोक व्याख्या करने के बाजय उनकी कथ्यपरक विषयगत दृष्टिकोण अदभुत है जो इस प्राचीन आलेख को उत्कृष्ट रूप से सुगम बनती है, जिसमें उनके द्वारा बनाए गए चित्र एवं आकृतियाँ भी शामिल हैं I
एक ऐसे संसार में जो बातचीत की बजाय तर्क-वितर्क से, संवाद की बजाय विवाद से मंत्रमुग्ध दिखाई पड़ती है, वहां देवदत्त इसे रेखांकित करते हैं कि कैसे कृष्ण, अर्जुन को रिश्तों की आलोचना न करके उसे समझने की ओर धकेलते हैं I यह आज और भी ज़्यादा प्रासांगिक बन जाता है जब हम 'आत्म' (आत्म-परिष्करण, आत्म यथार्थबोध, आत्मबोध और यहाँ तक कि सैल्फी!) को तुष्ट करने और अलगाने की ओर बढ़ रहे हैं I हम भूल गए हैं कि हम दूसरों के इकोसिस्टम में रहते हैं, जहाँ हम भोजन, प्रेम ओर अर्थ देने-पाने से एक दूसरे का पोषण करते हैं I यहाँ तक कि तब भी जब हम झगड़ते हैं I
'मेरी गीता' आप तक यही सन्देश पहुँचाने का मौका देती है I

About the Author(s)

देवदत्त पटनायक आधुनिक समय में पौराणिक कथाओं की प्रासंगिकता के विषय पर लिखते एवं व्याख्यान देते हैं I आप समाचार-पत्रों में 600 से अधिक लेख और साथ ही 30 किताबें लिख चुके हैं, जिनमें माय गीता एवं बिज़नेस सूत्र शामिल हैं I टी.वी. पर उनके कार्यक्रमों में बिज़नेस सूत्र शामिल हैं I वह संस्थाओं की लीडरशिप और शासन हैं I वह संस्थाओं को लीडरशिप और शासन से संबंधित विषयों पर परामर्श देते हैं और टीवी चैनल्स पर प्रसारित पौराणिक सीरियल्स पर अपनी राय रखते हैं I
वे मुंबई में रहते हैं I देवदत्त और उनकी किताबों के विषय में अधिक जानकारी के लिए DEVDUTT.COM देखें .

[profiler]
Memory usage: real: 20971520, emalloc: 18463552
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem