Charag

Charag

Author : Waseem Barelvi

In stock
Rs. 350.00
Classification Poetry
Pub Date 25 April 2018
Imprint Manjul
Page Extent 174 pages
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 9789387383241
In stock
Rs. 350.00
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

वसीम बरेलवी की रचनायें खास व आम दोनों ही तरह के लोगों की ज़बान पर रहते हैं I इनकी इन्हीं रचनाओं का संकलन है चराग I आसान और आम फ़हम ज़बान का इस्तेमाल कर वसीम की शायरी सभी का दिल जीत लेती है I चराग में वसीम बरेलवी अपना जुड़ाव इस युग, माहौल और मिट्टी से भरपूर दर्शाते हैं I वह सिर्फ़ काल्पनिक दुनिया की बातें नहीं करते बल्कि अपने आस-पास से पूरी तरह बाख़बर रहते हैं और जदीद मौजूआत, अर्थात समकालीन समस्याओं और घटनाओं पर पूरी नज़र रखते हुए इन्हें अपनी शायरी का हिस्सा बनाते हैं I

About the Author(s)

वसीम बरेलवी का सम्बन्ध मुरादाबाद के जागीरदारी घराने से है I इस घराने में बड़े-बड़े महान विद्यावान और साहित्यकार होते रहे हैं I उन्होंने 1958 में आगरा विश्वविद्यालय से उर्दू में एम.ए. किया I जल्दी ही उनकी नियुक्ति देहली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज में हो गयी I इसी दौरान उन्होंने मुशायरों में जाना शुरू कर दिया I कई ज़गह नियुक्ति के बाद जून 2000 में डीन के पद से कार्यमुक्त होकर वः पूर्ण रूप से शायरी को समर्पित हो गए I देश-विशेष में उन्हें असंख्य अवार्ड और सम्मान मिल चुके हैं I हिंदी उर्दू साहित्य अवॉर्ड , कैफ़ी आज़मी अदबी अवॉर्ड, फ़िराक इंटरनेशनल अवॉर्ड और अली सरदार जाफ़री अवॉर्ड यू.स.ए. शुरू होने के बाद सबसे पहले उन्हें ही प्रदान किए गए I

[profiler]
Memory usage: real: 20971520, emalloc: 18409968
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem