Aakhari Maharani (Hindi edn of Last Queen)

Aakhari Maharani (Hindi edn of Last Queen)

Author : Chitra Banerjee Divakaruni (Author) Neelam Bhatt (Translator)

In stock
Rs. 499
Classification Fiction
Pub Date 25 Oct 2022
Imprint Manjul
Page Extent 368
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 9789355431165
In stock
Rs. 499
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

मैं रानी जिन्दाँ हूँ। खालसा की माता। यही मेरी पहचान है, यही मेरी नियति है।

श्वानों के शाही प्रशिक्षक की बेटी, खूबसूरत जिन्दाँ कौर, महाराजा रणजीत सिंह की सबसे छोटी और आख़िरी रानी बनीं; वह उनकी सबसे प्रिय रानी भी थीं। छह साल की उम्र में जब उनके बेटे दलीप सिंह को अप्रत्याशित रूप से विरासत में राजगद्दी मिली तो वह उसकी संरक्षक बन गयीं।

पैनी नज़र वाली, ज़िद्दी, जुनूनी और अपने बेटे की विरासत की सुरक्षा के प्रति समर्पित जिन्दाँ को अंग्रेज़ों पर भरोसा नहीं था और उन्होंने अंग्रेज़ों द्वारा पंजाब को हड़पने से बचाने के लिए पुरज़ोर लड़ाई लड़ी। परम्परा तोड़कर वह ज़नाना से बाहर निकलीं, परदे को छोड़ा और सार्वजनिक रूप से राजकाज का काम किया। खालसा सैन्यदलों को सम्बोधित करते हुए जिन्दाँ ने उन्हें फ़िरंगियों के ख़िलाफ़ दो लड़ाइयों के लिए प्रेरित किया। उनकी ताकत और उनका प्रभाव इतना अधिक था कि विद्रोह की आशंका के कारण अंग्रेज़ों ने बग़ावती रानी से उनके बेटे समेत उनका सब कुछ छीन लिया,उन्हें क़ैद कर लिया और फिर देश निकाला दे दिया। पर यह सब भी उनके अदम्य संकल्प को नहीं तोड़ पाया।

यह एक राजा और एक मामूली लड़की की बेहतरीन प्रेम कहानी, निष्ठा
और धोखे को लेकर सचेत करने वाली कथा और मां-बेटे के बीच के कभी न टूटने वाले रिश्ते की ज़ोरदार दास्तान है। चित्रा बैनर्जी दिवाकरुणी का यह अविस्मरणीय उपन्यास उन्नीसवीं सदी की सबसे निडर महिलाओं में से एक की कहानी को बयाँ करता है, जो आज के समय के लिए भी एक प्रेरणा है।

About the Author(s)

चित्रा बैनर्जी दिवाकरुणी एक पुरस्कार विजेता और बेस्ट सेलर लेखिका, कवयित्री, कार्यकर्ता और लेखन शिक्षिका हैं। उनकी रचनाएं व्यापक रूप से पत्रिकाओं और संग्रहों में प्रकाशित हुर्इ हैं और उनकी किताबों का उन्तीस भाषाओं में अनुवाद हुआ है। उनकी कुछ रचनाओं पर फ़िल्में बनी हैं और नाटक भी मंचित हुए हैं। उनका आख़िरी उपन्यास बेस्टसेलर द फ़ॉरेस्ट ऑफ़ एनचेन्टमेन्ट है, जिसमें रामायण की कहानी सीता के ज़रिए कही गर्इ है। वह अपने पति मूर्ति के साथ ह्यूस्टन में रहती हैं और उनके दो बेटे हैं - आनंद तथा अभय। वह ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सराहे गए क्रिएटिव राइटिंग प्रोग्राम में पढ़ाती हैं। चित्रा ट्विटर हैंडल @cdivakaruni से ट्वीट करती हैं और पाठकों से अपने फ़ेसबुक पेज http://www.facebook.com/chitradivakaruni पर संपर्क करना पसंद करती हैं।

[profiler]
Memory usage: real: 15990784, emalloc: 15463224
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem