Harry Potter Aur Azkaban Ka Quaidi - 3 (Hindi edition of Harry Potter and the Prisoner of Azkaban)

Harry Potter Aur Azkaban Ka Quaidi - 3 (Hindi edition of Harry Potter and the Prisoner of Azkaban)

Author : J.K Rowling (Author) Dr. Sudhir Dixit (Translator)

In stock
Rs. 599.00
Classification Fiction/Children's Fiction
Pub Date
Imprint Manjul Publishing House
Page Extent 388
Binding Paper Back
Language Hindi
ISBN 9788183220309
In stock
Rs. 599.00
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

'जादूगरों की बस में आपका स्वागत है - फँसे हुए जादूगरों के लिए आपातकालीन यातायात का साधन। अपनी छड़ी वाला हाथ उठाएँ, ऊपर चढ़ें और हम आपको आपकी मनचाही जगह पर पहुँचा देंगे।'
जब जादूगरों की बस अँधेरे में धड़धड़ाती हुई आती है और ज़ोरदार आवाज़ के साथ उसके सामने रुकती है, तो हैरी पॉटर के लिए हॉगवर्ट्स में एक और असामान्य साल शुरू होता है। लॉर्ड वोल्डेमॉर्ट का समर्थक और सामूहिक हत्यारा जादूगरों की जेल अज़्काबान से भाग चुका है - और माना जाता है कि वह हैरी के पीछे पड़ा है। ज्योतिष की पहली कक्षा में ही प्रोफ़ेसर ट्रिलोनी हैरी की चाय की पत्तियों में मौत का अपशकुन देखती हैं... लेकिन सबसे ज्यादा दहशत वाली बात यह है कि स्कूल की सीमाओं की रखवाली दमपिशाच कर रहे हैं, जो किसी को भी चूमकर उसकी आत्मा निकाल सकते हैं।

About the Author(s)

जे.के. रोलिंग हैरी पॉटर की बेहद लोकप्रिय पुस्तकों की लेखिका हैं। 1900 में एक ट्रेन यात्रा के दौरान उनके मन में हैरी पॉटर का विचार आया। इसके बाद उन्होंने सात पुस्तकों की श्रॅंखला लिखना शुरू किया। पहली पुस्तक हैरी पॉटर एंड द फ़िलॉसफ़र्स स्टोन 1997 में ब्रिटेन में प्रकाशित हुई। श्रॅंखला पूरी होने में दस साल लग गए और यह सिलसिला 2007 में हैरी पॉटर एंड द डेथली हेलोज़ के प्रकाशन के साथ ख़त्म हुआ।


[profiler]
Memory usage: real: 20971520, emalloc: 18479728
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem