Yog ka Jadu

Yog ka Jadu

Author : Pavan Guru and Mamta Guru

In stock
Rs. 399
Classification Health & well-being
Pub Date 15 July 2016
Imprint Manjul Hindi
Page Extent 336
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 9788183227063
In stock
Rs. 399
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

योग का आरंभ तब हुआ जब सृष्टि का आरंभ हुआ I भगवान शिव द्वारा इस योग की रचना की गई जिससे मनुष्य जाति मन और शरीर से निरोग रह सके I इस योग का अर्थ है भौतिक, निराकार व साकार का मिलन I वास्तव में, परमपिता परमेश्वर से सीधा संपर्क करने की विधि को योग कहते हैं I योग के विभिन्न रूप हैं - भक्ति योग, कर्म योग, ज्ञान योग व ध्यान योग I

योग शुद्ध वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा मानव का अंतरंग व बहिरंग दोनों ही शुद्ध हो जाते हैं I अष्टांग योग के द्वारा हम ध्यान में प्रविष्ट होने के लिए आरंभिक प्रयास करते हैं I अष्टांग योग के द्वारा हम ध्यान में प्रविष्ट होने के लिए आरंभिक प्रयास करते हैं I अष्टांग योग का अर्थ यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान व समाधि के माध्यम से अपने शरीर, मन और आत्मा की शुद्धि करना है I

आज के युग में सामान्य मनुष्य के लिए योग को अपनाना अत्यंत कठिन कार्य है क्योंकि आज मनुष्य का जीवन एक मशीन की भांति बन कर रह गया है I योग मानवता का वह संग्रहित अमूल्य खज़ाना है, जो तीन वस्तुओं से बना है - शरीर, मन व आत्मा I इन अवस्थाओं का संतुलन ही योग का मार्ग दिखाता है I

पाठकों को एक ऐसी पुस्तक उपलब्ध कराने का प्रयास किया गया है जिसमें योग के समस्त भागों, प्रभावों व बीमारियों की जानकारी एवं उपायों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई हो I पुस्तक के हर पहलू को कई बार विचार करने के बाद ही शामिल किया गया है जिसमें लगभग 6 वर्षों का समय लगा I पुस्तक में जनमानस द्वारा दिये गये सुझावों को समाहित किया गया है जिससे सभी इसका सम्पूर्ण लाभ ले सकें I

About the Author(s)

पवन गुरु योगाचार्य पवन गुरु योग एवं नैचुरोपैथी में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त कर चुके हैं I अपने गुरु स्व. डॉ, के. एम. गांगुली के निर्देशन में उन्होंने योग क्लास का संचालन किया और बाद में उनके समस्त कार्यों के संचालन की बागडोर भी थाम ली I वे 40 वर्षों से योग के माध्यम से पीड़ित मानवता हेतु समर्पित हैं I ममता गुरु योगाचार्य ममता गुरु योग, डायटिशियन एवं नैचुरोपैथी से उपाधि प्राप्त हैं I पति पवन गुरु की लगातार प्रेरणा और योग के प्रति समर्पण भाव से समय-समय पर प्रोत्साहन व सहायता प्राप्त होने से ममता गुरु योग और मानवता की सेवा के लिए निरन्तर सक्रिय हैं I पिछले 25 वर्षों से निःस्वार्थ भाव से योग व आहार विशेषज्ञ के रूप में सेवा कर रही हैं I वे योग साधना एवं अनुसंधान केंद्र का संचालन समर्पित भाव से कर रही हैं I

[profiler]
Memory usage: real: 15990784, emalloc: 15461368
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem