Times of India ki Kahani (Hindi edn of The TOI Story)

Times of India ki Kahani (Hindi edn of The TOI Story)

Author : Sagita P. Menon Malhan

In stock
Rs. 295
Classification Press & Journalism
Pub Date 15 October 2015
Imprint Manjul Hindi
Page Extent 274
Binding PB
Language Hindi
ISBN 9788183226240
In stock
Rs. 295
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

एक वक्त था जब देश में अख़बार जगत की गतिविधियाँ अपरिभाषित, लेकिन सख्त नियमों से बंधी हुई थीं I और यह बात 1980 के दशक तक लागू रही, जब तक द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, इकोनॉमिक टाइम्स समेत अन्य कई प्रकाशनों के स्वामी बेनेट, कोलमैन ऎण्ड कंपनी लिमिटेड ने नियमों को पुनः परिभाषित कर अपने अनुसार नए नियम नहीं बना लिए I फिर मामला चाहे अख़बार की कीमत का हो या उनमें प्रकाशित होने वाले विज्ञापनों व सम्पादकीय स्वतंत्रता का I अगले दो दशक में भारतीय अख़बार जगत की सूरत पूरी तरह बदल गई I

टाइम्स ग्रुप ने किस तरह भारतीय मीडिया बिज़नेस को पूरी तरह बदल डाला, इस बारे में अधिक जानकारी उबलब्ध नहीं है I टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ही एक पूर्व पत्रकार संगीता मल्हन ने टाइम्स ग्रुप की इस विस्तृत गाथा को पाठकों तक पहुँचाने की कोशिश की है I उन्होंने उस दौर के ऐसे कई पत्रकारों और कॉर्पोरेट जगत के नामी-गिरामी लोगों से विस्तार में बातचीत की जिन्होंने समाचार-पत्र के रूपांतरण में मुख्य भूमिका निभाई I जो सच्चाई उभरकर आई, वह एक अहिरन कर देने वाले अहं के टकराव, बदलते दृष्टिकोण और कॉर्पोरेट जगत के बदलते स्वरूप की अनोखी कहानी थी I ख़बरों की दुनिया से सीधे या परोक्ष रूप से जुड़े और भारत में समाचारों के निर्माण में रुचि रखने वाले हर व्यक्ति को यह पुस्तक ज़रूर पढ़नी चाहिए I

About the Author(s)

संगीता पी. मेनन मल्हान ने रचनात्मक लेखन की तरफ़ बढ़ने से पहले एक पत्रकार के तौर पर द टाइम्स ऑफ़ इंडिया (दिल्ली), मिड दे और स स्टेट्समैन में काम किया I इससे पहले उनकी दो और किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं - एक, रेस्टफेरियन्स टेल्स, जो बच्चों के लिए लघु कहानियों पर आधारित है और दूसरी नुसरत-ए-ग़म जो उर्दू कविताओं का संग्रह है I एक प्राइवेट पायलट रह चुकीं संगीता को भाषाओँ मंि दिलचस्पी है और वे फ्रेंच पद्धति हैं I

[profiler]
Memory usage: real: 15990784, emalloc: 15456440
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem