Yes to life In spite of Everything (Hindi)

Yes to life In spite of Everything (Hindi)

Author : Viktor E.Frankl (Author) Mahendra Singh Yadav (Translator)

In stock
Rs. 199
Classification Self Help / Psychology
Pub Date June 2022
Imprint Manjul
Page Extent 122
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 9789355430021
In stock
Rs. 199
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

‘हम अपने कार्यों से जीवन को सार्थकता देते हैं, और साथ ही प्रेम के ज़रिए व अंतत: पीड़ा से गुज़रकर भी’यह पुस्तक बड़ी कठिनाइयों का सामना होने के बावजूद ज़िंदगी को गले लगाने का मार्ग प्रशस्त करती है।
ऑश्वित्ज़ से अपनी रिहाई के कुछ महीनों बाद मशहूर मनोचिकित्सक विक्टर फ्रैंकल ने अपनी वार्ताओं की उल्लेखनीय श्रंखला प्रस्तुत की। इनमें सार्थकता, लचीलेपन और हर संकट में एक मौक़ा छिपा होने से जुड़े उनके मूलभूत विचारों को साझा किया गया है।
यातना शिविर में रोंगटे खड़े कर देने वाली दहशत के बावजूद फ्रैंकल ने अपने बंदी साथियों से जाना कि ‘ज़िंदगी को स्वीकार करने’ की संभावना हमेशा रहती है।

About the Author(s)

विक्टर ई. फ्रैंकल 1997 में अपनी मृत्यु होने तक युनिवर्सिटी ऑफ़ विएना मेडिकल स्कूल में तंत्रिका विज्ञान एवं मनोचिकित्सा के प्रोफ़ेसर रहे। उनकी 39 किताबों का 50 भाषाओं में अनुवाद हुआ है। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान वे तीन वर्षों तक ऑश्वित्ज़, दखाओ और अन्य यातना शिविरों में बंदी रहे।

[profiler]
Memory usage: real: 15990784, emalloc: 15485104
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem