Zindagi Benakaab

Zindagi Benakaab

Author : S. P. Bharill

In stock
Rs. 175
Classification Self help
Pub Date March 2021
Imprint Manjul
Page Extent 170
Binding Paperback
Language Hindi
ISBN 978-81-950415-3-4
In stock
Rs. 175
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

ज़िंदगी की उलझन का मतलब विचारों की उलझन है और हमारे विचार तभी सुलझ सकते हैं जब हम जीवन को समझ लें। इसके लिए प्रकृति के नियम, विश्व के संचालन की व्यवस्था और अध्यात्म के सिद्धांतों के साथ-साथ उनके रहस्यों को स़िर्फ समझना ही नहीं होगा बल्कि उन्हें अपने जीवन में उतारना भी होगा। यह किताब इसमें आपकी मदद ही नहीं करेगी बल्कि उस दिशा में आपको ले कर भी जायेगी।
अगर आप उलझनों से मुक्त खुशहाल जीवन जीना चाहते हैं, आप जानना चाहते हैं कि मैं कौन हूँ, आप अपने आपको आइने में देखना चाहते हैं, आप अपने मुखौटे उतार फेंकना चाहते हैं, आप संबंधों में मधुरता चाहते हैं तथा ऊर्जा और उत्साह से भरपूर जीवन का आनंद लेना चाहते हैं, तो इस किताब को पढ़ना होगा।
समय तीव्र गति से बह रहा है, तो समय रहते ही हम इन तथ्यों को समझकर, प्रतिदिन की दिनचर्या में उतार कर अपने जीवन में परिवर्तन ले आएँ, और आज ही इस किताब को पढ़ना शुरू करें।
विश्वास मानिये, आप इस प्रयास में सफल होंगे।

About the Author(s)

एस. पी. भारिल्ल बेस्टसेलर किताब ‘जीने के रहस्य - 18 चैप्टर्स’ के लेखक, सफल उद्यमी व भारत में सबसे ज़्यादा सुने जाने वाले लोकप्रिय वक्ताओं में से एक हैं। सोशल मीडिया पर आपके कई वक्तव्यों को लाखों बार सुना गया है।
आपकी शैली बड़ी आकर्षक और व्यावहारिक होने से आपके सेमिनार, वर्कशॉप और नेतृत्व विकास की ट्रेनिंग ने लोगों की ज़िंदगियों को गहराई से छुआ है।
देश की युवा पीढ़ी में सकारात्मक सोच लाने, चरित्र विकास, एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट और सामाजिक कार्य को देखते हुए आपको ‘इंदिरा गाँधी प्रियदर्शिनी अवॉर्ड’ सहित अनेक पुरस्कारों से सम्मानित भी किया गया है। अध्यात्म की ठोस नींव पर जीवन जीने की कला, प्रबंधन, सफलता, नज़रिया एवं विकास की प्रेरणा इनकी विशेषता है, जिस पर चलकर लाखों लोगों ने अपने सपनों को साकार रूप दिया है।

[profiler]
Memory usage: real: 31981568, emalloc: 31283208
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem