Vaade jo Nibhane Hain (Hindi edn of Promises to Keep )

Vaade jo Nibhane Hain (Hindi edn of Promises to Keep )

Author : Charles Paul Conn

In stock
Rs. 250.00
Classification Network Marketing
Pub Date 2003
Imprint Manjul Publishing House
Page Extent 188
Binding Paper Back
Language Hindi
ISBN 9788186775318
In stock
Rs. 250.00
(inclusive all taxes)
OR
About the Book

चाल्र्स पाल कान की यह पुस्तक एमवे की अभूतपूर्व सफलता की कहानी बताती है। इसमें बताया गया है कि एमवे की स्थापना कब और क्यों हुई, यह नंबर वन क्यों है और लोगों को इसके बारे में क्या ग़लतफ़हमियाँ हैं। नेटवर्क मार्केटिंग की आधारशिला।

About the Author(s)

Charles Paul Conn

[profiler]
Memory usage: real: 20971520, emalloc: 18450096
Code ProfilerTimeCntEmallocRealMem